Web
Analytics
दिल्ली की धाकड़ बेटी ! | Aapki Chopal

दिल्ली की धाकड़ बेटी !


दिल्ली की धाकड़ बेटी ने दिलाया देश को एशियन जूनियर कुश्ती चेम्पियनशिप में गोल्ड ! पूजा गहलोत ने साबित किया कि हमारी बेटियां भी बेटों से कम नही ! दिल्ली के नरेला क्षेत्र की बेटी ने किया देश का नाम ऊँचा ! फाइनल में जापान की खिलाड़ी को चटाई धूल ! 15 से 18 जून को ताइवान में सम्पन्न हुई चेम्पियनशिप ! लडकों के अखाड़े में प्रेक्टिस करते करते जीता गोल्ड ! ओलिम्पिक में देश को एक और गोल्ड दिलवाने के लिए अग्रसर है पूजा गहलोत !
“हमारी बेटियां भी बेटों से कम नही” – एक फिल्म के इस डाईलोग को सच साबित कर दिखाया है देश की राजधानी दिल्ली के नरेला ग्रामीण इलाके में रहने वाली पूजा गहलोत ने ! बिना किसी सुविधाओं के भी अपने लक्ष्य को पाने की तमन्ना पूजा में साफ़ साफ़ देखने को मिलती है ! नरेला जैसे ग्रामीण क्षेत्र में एक छोटे से अखाड़े में लडकों के साथ प्रेक्टिस करते करते पूजा ने देश को गोल्ड दिलवा दिया ! मगर अखाड़े में सुविधाओं की कमी कंही न कंही पूजा के मन को कचोटती जरुर नजर आती है ! एक लडकी होकर लडकों के साथ प्रेक्टिस करने में कितनी दिक्कतों का सामना पूजा को करना पड़ा होगा , पुरुष प्रधान समाज के कितने व्यंग्य और ताने पूजा के परिवार को झेलने पड़े होंगे इन सब बातों का अंदाजा पूजा के पिताजी की आँखों से बह रहे इन ख़ुशी के आंसुओं को देख सहज ही लगाया जा सकता है ! मगर ये तमाम अडचने पूजा के पिताजी की हिम्मत को तोड़ने में नाकामयाब रही और पूजा के कोच आनन्द प्रकाश खत्री के सहयोग से पूजा निरंतर अपने लक्ष्य की और बढती चली गयी ! आज जब पूजा ने गोल्ड मेडल देश को जीतकर दिया तो बेटियों का विरोध करने वाले समाज के मूंह पर एक तमाचा सा लगा !
नरेला के सरकारी स्कूल से पढ़ी पूजा को शुरू से ही दिक्कतों का सामना करना पड़ता था ! पढाई के साथ-साथ कुश्ति की प्रेक्टिस किसी चेलेंज से कम नही रही ! लडकों के अखाड़े में अकेली लडकी पूजा को प्रेक्टिस करते देख तानों का सामना भी पूजा और उनके परिवार को लगातार करना पड़ा , मगर उन्होंने हिम्मत नही हारी ! घर में एक नोकरी और तीन लडकियों और एक लडके की जिम्मेदारी पूजा के पिताजी पर थी ! मगर उन्होंने अपनी माली हालत को कभी पूजा की प्रेक्टिस में अडचन नही बनने दिया ! खुद रूखा सूखा खाकर भी उन्होंने पूजा की डाइट का पूरा ध्यान रखा ! पूजा का मानना है की सरकार अगर ग्रामीण क्षेत्र के खिलाडियों की तरफ थोड़ा सा भी ध्यान दे तो इस माटी से अनेकों खिलाड़ी निकल सकते हैं !
देश के प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी के बेटी बचाओ बेटी पढाओ को सार्थक करते हुए नजर आई पूजा गहलोत ! एशियन जूनियर कुश्ती चेम्पियनशिप में गोल्ड दिलवाने के बाद अब पूजा कामनवेल्थ और ओलम्पिक में भी देश का नाम ऊंचा करके गोल्ड ही जितना चाहती है ! पूजा और उसके कोच के प्रयास और परिवार के संघर्ष के जज्बे को हमारी टीम की और से नमन !

स्पेशल डेस्क आपकी चौपाल न्यूज़ दिल्ली

COMMENTS

error: Content is protected !!