दिल्ली : जन्मदिन की थी तैयारी लेकिन सब कुछ बदल गया मातम में !

दिल्ली : जन्मदिन की थी तैयारी लेकिन सब कुछ बदल गया मातम में !

दिल्ली के बादली क्षेत्र में बीती रात हुआ एक दर्दनाक हादसा ,बादली इलाके में लिबासपुर सर्विस लाइन में नैशनल हाईवे के किनारे सर्विस लाइन में लाईट नही है और एक जगह CNG पम्प के पास गहरा गड्डा बना है , हर रोज यहाँ से गुजरने वालो को गड्डे की जानकारी है इसलिए वे सडक के दुसरे किनारे चलते है ,दूसरे किनारे पर खराब ट्रक खड़ा था जिसे ट्रेफिक पुलिस ने रात में हटाया नही और एक बाइक ट्रक को देखकर अचानक रुकी तो पीछे से आ रहे दुसरे ट्रक ने बाइक सवार दोनों युवको को टक्कर मार दी  , बाइक पर पास के गाँव के रहने वाले मोहित यादव ( रेड टी शर्ट में ) और जतिन पंवार ( ब्लू शर्ट में ) सवार थे और टक्कर इतनी तेज लगी की मोहित यादव की मौके पर ही मौत हो गई !
जतिन पंवार घायल था और अंदरूनी चोट थी खुद उठकर पुलिस की गाडी में बैठा ! दुर्घटना मुकरबा चौक के पास हुई और नजदीकी अस्पताल बाबू जगजीवनराम अस्पताल जहांगीर पूरी था पर पुलिस की गाड़ी जतिन पंवार को नजदीकी अस्पताल की बजाय दिल्ली के बोर्डर के पास  स्थित नरेला के सत्यवादी राजा हरिश्चंदर अस्पताल ले गई, जहा करीब पैतालीस मिनट बाद जतिन पंवार की मौत हो गई ! मोहित यादव का आज जन्मदिन था और घर में जन्मदिन की तैयारियाँ थी लेकिन सब कुछ बदल गया मातम में !
मोहित यादव की उम्र 24 साल तो जतिन पंवार की उम्र 23 है,मोहित यादव B टेक का स्टूडेंट था और जतिन पंवार की जूतों की अपनी दूकान है ,जतिन पंवार की सात बहने है और भाई इकलौता था, दोनों युवक शादीसुदा नही थे अब घर में मातम छाया है दोनों दोस्त थे बीती रात दूकान के बाद किसी दूकान में POP के काम को चैक करने गये थे और वापसी में रात करीब दो बजे ये हादसा हो गया  और जिस ट्रक ने कुचला वो मौके से फरार हो गया ! सडक किनारे दुकानदारों ने बताया की इस गड्डे में हर रोज बाइकर्स गिरते है कोई ठीक नही होता !आज मोहित यादव का जन्मदिन था पर रात में ही मोहित यादव की मौत से परिजन ही नही बल्कि पूरा लिबासपुर गाँव सदमे में है और यहाँ हादसे के जिम्मेदार सभी लोगो पर FIR की मांग कर रहे है !
लेकिन कही न कहि सवाल पुलिस की कार्यवाही पर भी उठता हैं अगर पुलिस जतिन को दिल्ली के बोर्डर के पास  स्थित नरेला के सत्यवादी राजा हरिश्चंदर अस्पताल की बजाये नजदीकी अस्पताल बाबू जगजीवनराम ले गई होती तो शायद जतिन पंवार आज जिन्दा होता !

स्पेशल डेस्क आपकी चौपाल न्यूज़ दिल्ली

COMMENTS

error: Content is protected !!