Web
Analytics
कृषि मेले के आखिरी दिन कृषि मंत्री ने किया किसानों को संबोधित | Aapki Chopal

कृषि मेले के आखिरी दिन कृषि मंत्री ने किया किसानों को संबोधित

 

 

 

दिल्ली में स्थित भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान में लगे ‘कृषि उन्नति मेला’ का समापन हो चुका है, इस मेले में न सिर्फ आम बल्कि खास लोगों ने भी शिरकत करते हुए कार्यक्रम को साकार किया और तमाम नेतागण व संस्थाओं ने इसमें विशेष योगदान भी दिया, माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के निर्देशन में गत वर्षो में कृषि और किसानों की बेहतरी के लिए जो सतत प्रयास किये गये हैं उनके उत्साहजनक और सकारात्मक परिणाम दिखने लगे हैं, मोदी सरकार किसानों के कल्याण के लिए जिस मनोयोग से काम में जुटी है,  उससे किसानों के जीवन में गुणात्मक सुधार आ रहा है, इन सुधारों की एक छटा पूसा में आयोजित कृषि उन्नति मेले में देखने को मिली!

मोदी सरकार ने देश के विकास के लिए देश के सामने नई कार्यविधि और पारदर्शी कार्यशैली के नए प्रतिमान रचे हैं, सरकार ने समयबद्ध तरीके से प्रधानमंत्री जी के कुशल मार्गदर्शन में किसान कल्याण की योजनाओं के पूर्ण कार्यान्वयन के लक्षयों को मिशन मोड में परिवर्तित किया है, सुशासन के नए आयामों, नवाचारों और सुधारवादी दृष्टिकोण से एक आधुनिक तथा भविष्योन्मुख भारत की नींव सरकार ने रखी है, मोदी सरकार किसानों के मन में देश की कृषि उन्नति के लिए की गई नई पहलों के प्रति जागरूकता लाने मे सफल हुई है!

कृषि उन्नति मेले के आखिरी दिन केन्द्रीय कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह ने किसानों को अवार्ड से सम्मानित किया और कृषि से सम्बंधित कुछ पुस्तकों का विमोचन भी किया, इस विदायक समारोह में केन्द्रीय कृषि मंत्री ने मंच से किसानों को संबोधित करते हुए मोदी सरकार की कृषि से सम्बंधित जानकारीयां साझा की, इस विदायक समारोह में कृषि मंत्री ने पुरे मेले का दौरा किया और पशुपालन के स्टाल में पहुंचकर 9 करोड़ के युवराज और रुस्तम से मुलाकात भी की!

इस मौके पर केन्द्रीय कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह समेत, कई राज्यों के कृषि मंत्रियों ने भी शिरकत की, राज्य मंत्री परषोतम रूपाला, कृषि राज्य मंत्री श्रीमती कृष्णा राज, उत्तर प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्या प्रताप शाही, डीएआरई (DARI)के सचिव और आईसीएआर (ICAR) के महानिदेशक डॉ.त्रिलोचन महापात्रा,राष्ट्रीय वर्षा सिंचित क्षेत्र प्राधिकरण के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अशोक दलवई भी शामिल थे!

केन्द्रीय कृषि मंत्रालय पूरे मनोयोग और ईमानदारी के साथ प्रधानमंत्री के इस सपने को साकार करने में लगा हुआ है, नीति आयोग ने नए व्यवसाय मॉडलों के माध्यम से किसानों की आय को दोगुना करने और किसानों की कठिनाईयों को दूर करने के लिए एक कार्यबल का गठन किया है, केन्द्र सरकार ने वर्ष 2022 तक किसानों की आमदनी को दोगुना करने से संबंधित विषयों की जाँच करने और इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए कार्यविधि तेज कर दी है ताकि जल्द से जल्द किसानों से किये वादें को पूरा किया जा सके!

स्पेशल डेस्क,आपकी चौपाल न्यूज़!

 

 

COMMENTS

error: Content is protected !!