Web
Analytics
बीजेपी नेता ने किया जापानी अतिथियों का अपमान | Aapki Chopal

बीजेपी नेता ने किया जापानी अतिथियों का अपमान

अतिथि देवो भवः एक ऐसा स्लोगन है जो अतिथियों को भगवान तुल्य बनाता है, भारत देश में अतिथियों को भगवन का दर्जा दिया जाता है, लेकिन जब देश की कमान सँभालने वाले ही इस स्लोगन के अर्थ को तार तार कर दे तो ये स्लोगन  महज़ मज़ाक बनकर ही रह जाता है!  

अतिथि देवो भवः “बीजेपी की मेयर प्रीति अग्रवाल अपनी पार्टी और संगठन के इस श्लोगन का किस तरह मजाक उड़ाती है इसकी बानगी रोहिणी सेक्टर 11 में एमसीडी स्कूल के उदघाटन पर देखने को मिली, मौक़ा था जापानी कम्पनी के सहयोग से नगर निगम स्कूल में स्मार्ट क्लास के उदघाटन का, यहाँ पहुंचे विदेशी मेहमानों को तीन घंटे महापौर का इन्तजार करना पड़ा, उसके बाद नगर निगम के नेता एक दूसरे के सामान और स्वागत में ऐसे मशगूल हुए की मेहमानों की तरफ ध्यान ही नहीं गया, ये विदेश मेहमान खुद को उपेक्षित सा महसूस कर रहे थे!

देश की राजधानी में हुआ विदेशी मेहमानों का अपमान, नार्थ एमसीडी मेयर ने किया विदेशी मेहमानों अपमान, स्मार्ट क्लास स्पॉन्सर जापानी मेहमानों को कराया तीन घंटे तक इंतजार, स्कूल में स्मार्ट क्लास के उद्घाटन को बना दिया राजनैतिक मंच !
बीजेपी बेशक समय-समय पर अतिथि देवो भवः का राग अलापती रहती हो लेकिन नार्थ एसमीडी की मेयर प्रीति अग्रवाल अतिथि धर्म का कितना ख्याल रखती है इसकी बानगी रोहिणी सेक्टर 11 में एमसीडी स्कूल के स्मार्ट क्लास उदघाटन  के मौके पर नजर आयी, दिल्ली नगर निगम के इस स्कूल में स्मार्ट क्लास को स्पॉन्सर करने आये मेहमानों को मेयर प्रति अग्रवाल ने तीन घंटे इंतजार कराया, इन विदेशी मेहमान में महिलाएं भी शामिल थी, जैसे ही मेयर मंच पर पहुंची, मंच से स्वागत का सिलसिला चल निकला, स्वागत भी केवल बीजेपी नेताओं का ही हुआ,  विदेशी मेहमान खुद को उपेक्षित सा महसूस कर रहे थे, इन विदेशी मेहमानों के स्वागत का ख्याल किसी को नहीं रहा, किसी कार्यकर्ता ने जब इस और ध्यान दिलाया तो तब जाकर उनका भी स्वागत हुआ! 
इस मौके पर नार्थ दिल्ली नगर निगम के तमाम बड़े नेता और अधिकारी भी मौजूद थे, मेयर द्वारा इस आयोजन के लिए लंबा इन्तजार कराया जाना उन्हें भी अच्छा नहीं लगा, मेयर के इस व्यवहार की जब चर्चा हुई तो बीजेपी नेता अपनी नाराजगी व्यक्त करने से नहीं रोक पाए, मेयर साहिबा ने तो इस सवाल पर भागने में ही भलाई समझी!
बहरहाल मेयर का यह व्यव्हार किसी को अच्छा लगा हो या न लगा हो, लेकिन एमसीडी स्कूल में इस तरह की स्मार्ट क्लास लगे तो यह एक अच्छा कदम है, इस उदारता के लिए विदेशी मेहमानों का विशेष स्वागत और सम्मान होना चाहिए , लेकिन इन नेता खुद के स्वागत में इतने  व्य्स्त हो गए की न अतिथि धर्म का ख्याल रहा न विदेशी मेहमानों का!
स्पेशल डेस्क,आपकी चौपाल न्यूज़,दिल्ली! 

 

COMMENTS

error: Content is protected !!