अब कर्ज लेकर विदेश भागने वालों पर लगेगी नकेल

अब कर्ज लेकर विदेश भागने वालों पर लगेगी नकेल

 

 

केंद्र सरकार ने  कैबिनेट की बैठक में दो नए अध्यादेश लाए गए है जिसमें से पहले अध्यादेश में 12 साल तक की मस्सों से रेप करने पर सजा-ए-मौत का प्रावधान है तो वहीँ दूसरा अध्यादेश उन भगौड़ो के लिए है जो कर्जा लेका विदेशों में भाग जाते है, ये अध्यादेश बैंकों से कर्ज लेकर विदेश भागने वालों पर नकेल कसने के लिए है, राष्ट्रपति से मंजूरी के बाद अब आर्थिक अपराध कर देश से भागे व्यक्तियों की संपत्ति उन पर मुकदमे का निर्णय आए बिना जब्त करने और उसे बेच कर कर्ज देने वालों का पैसा वापस किया जा सकेगा, भगोड़े आर्थिक अपराधी विधेयक को 12 मार्च को लोकसभा में पेश किया गया था, लेकिन संसद में विभिन्न मुद्दों को लेकर गतिरोध के चलते इसे पारित नहीं किया जा सका, इसके तहत नीरव मोदी और विजय माल्या जैसे उन लोगों की संपत्तियां जब्त करने का प्रावधान है, जो आपराधिक कार्रवाई से बचने के लिए देश से भाग गए हैं!

इस अध्यादेश के प्रावधान ऐसे आर्थिक अपराधियों पर लागू होंगे जो देश वापस आने से इनकार कर देते हैं, जिन लोगों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी हो चुके हैं और जिन पर 100 करोड़ रुपये से अधिक का बकाया है और उन्हें जानबूझ कर कर्ज न चुकाने वाला घोषित किया जा चुका है, इस तरह के आरोपियों के खिलाफ धन शोधन निरोधक कानून (PMLA) के तहत कार्रवाई की जाएगी, इसके तहत अभियोजन से बचने के लिए विदेश भाग जाने वाले या मामले का सामना करने के लिए वापस लौटने से इनकार करने वाले को भगोड़ा अपराधी माना जाएगा, इस अध्यादेश में ऐसे भगोड़े अपराधी भी आएंगे, जिन पर जाली सरकारी स्टाम्प और मुद्रा छापने, धन की कमी से चेक वापस होने, मनी लॉड्रिंग और कर्जदाता के साथ धोखाधड़ी करने के सौदे में लिप्त होने के आरोप में गिरफ्तारी वारंट जारी हैं!

स्पेशल डेस्क,आपकी चौपाल न्यूज़! 

COMMENTS

error: Content is protected !!