Web
Analytics
हिमाचल में पीजीआई स्तर की सुविधाएं नेरचौक मेडिकल कॉलेज में मिलेंगी | Aapki Chopal

हिमाचल में पीजीआई स्तर की सुविधाएं नेरचौक मेडिकल कॉलेज में मिलेंगी

हिमाचल में पीजीआई स्तर की सुविधाएं नेरचौक मेडिकल कॉलेज में मिलेंगी

नेरचौक (मंडी)। जनता के लिए खुशखबरी है। यदि सब कुछ ठीक रहा तो जल्द ही अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस मेडिकल कालेज नेरचौक में आम लोगों को एम्स और पीजीआई स्तर की स्वास्थ्य सेवाएं मिलना शुरू हो जाएंगी। सरकार के निर्देशों के बाद मेडिकल कॉलेज नेरचौक में ओपीडी शुरू करने की कवायद प्रबंधन ने तेज कर दी है। खामियों को दुरुस्त करते हुए प्रबंधन ने 51 करोड़ रुपये की चिकित्सीय और अन्य उपकरण की खरीद का प्रपोजल प्रदेश सरकार को भेजा है। वहीं छह कैजुअल्टी मेडिकल ऑफिसर की तैनाती और मेकेनिकल उपकरण की खरीद की मंजूरी मांगी है। प्रदेश सरकार ने करीब 10 दिन पहले प्रबंधन को कॉलेज में ओपीडी शुरू करने के निर्देश जारी किए थे। जिसपर प्रबंधन ने अब प्रदेश सरकार को प्रपोजल सौंपी है।
दावों के बावजूद लटक रही ओपीडी
हालांकि, कॉलेज प्रबंधन ने पहले 15 अप्रैल तक ओपीडी शुरू करने का दावा किया था। लेकिन, लाल बहादुर शास्त्री मेडिकल कॉलेज प्रबंधन अप्रैल माह बीत जाने पर भी ओपीडी शुरू नहीं कर सका है। अब प्रबंधन ने ओपीडी शुरू करने को लेकर प्रदेश सरकार के पाले में गेंद डाल दी है। यदि कॉलेज की प्रपोजल को मंजूरी मिलती है तो जल्द ही कॉलेज में ओपीडी शुरू हो जाएगी।

ओपीडी के लिए कैजुअल्टी मेडिकल ऑफिसर की तैनाती जरूरी
मेडिकल कॉलेज नेरचौक में ओपीडी शुरू होने के लिए छह कैजुअल्टी मेडिकल ऑफिसर के लिए स्वीकृति का इंतजार है। अस्पताल में ओपीडी शुरू करने के लिए इन छह कैजुअल्टी मेडिकल ऑफिसर की नियुक्ति बेहद जरूरी है। वहीं, मेकेनिकल उपकरण खरीदने के लिए प्रबंधन ने प्रदेश सरकार को प्रपोजल तो सौंपी है लेकिन, ईएसआईसी और कॉलेज प्रबंधन में खरीद का करार होने के बावजूद प्रदेश सरकार प्रपोजल को मंजूरी नहीं दे सकी है। इन उपकरणों की खरीद पर 51 करोड़ की राशि खर्च होगी। इसके अलावा 26 लैब टेक्नीशियन के पद और सेनीटेशन की व्यवस्था की जानी बाकी है।

इस वर्ष कॉलेज में बैठेगा दूसरा बैच
मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस की कक्षाएं शुरू हो गई है। दूसरा बैच इसी वर्ष बैठ जाएगा। जिसमें 70:30 फीसदी के हिसाब से 70 प्रतिशत सीटें हिमाचल और 30 फीसदी सीटें ईएसआईसी के लिए होंगी। हाल ही कॉलेज के लिए 49 लाख के कंप्यूटर और 40 लाख की पठन सामग्री का ऑर्डर दे दिया गया है।
जल्द ओपीडी होगी शुरू : प्रबंधन
मेडिकल कॉलेज के अतिरिक्त निदेशक किशोरी लाल का कहना है कि मेडिकल कॉलेज में जल्द ही ओपीडी शुरू की जाएगी। खामियों को पूरा किया जा रहा है। प्रदेश सरकार से मेकेनिकल उपकरण खरीदने के लिए स्वीकृति मांगी गई है। वहीं, 6 कैजुअल्टी मेडिकल ऑफिसर्स, 26 लैब टैक्नीशियन के पद और आउटसोर्सिंग सेसेनीटेशन व्यवस्था की जाएगी।

COMMENTS

error: Content is protected !!