Web
Analytics
डॉ. महेश शर्मा ने पुराना किला की पुनर्निमित झील और प्रकाश सज्जा का उद्घाटन किया | Aapki Chopal

डॉ. महेश शर्मा ने पुराना किला की पुनर्निमित झील और प्रकाश सज्जा का उद्घाटन किया

डॉ. महेश शर्मा ने पुराना किला की पुनर्निमित झील और प्रकाश सज्जा का उद्घाटन किया

संस्कृति राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ. महेश शर्मा ने बुधवार को नई दिल्ली के पुराना किला में पुनर्निमित झील और प्रकाश सज्जा व्यवस्था का उद्घाटन किया। इस अवसर पर संसद सदस्य श्रीमती मीनाक्षी लेखी, संस्कृति मंत्रालय के सचिव  अरूण गोयल, एएसआई की महानिदेशक श्रीमती ऊषा शर्मा, एनबीसीसी के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक डॉ. अनूप कुमार मित्तल तथा अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

समारोह को संबोधित करते हुए डॉ. महेश शर्मा ने कहा कि विश्व मंच पर अपनी समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को प्रस्तुत करना हमारी जिम्मेदारी है। उन्होंने परियोजना के लिए भारतीय पुरातत्व संर्वेक्षण की प्रशंसा करते हुए कहा कि सरकार प्रमुख पर्यटक स्थलों को पर्यटक अनुकूल बनाने का निरन्तर प्रयास कर रही है। इससे युवाओं को देश के इतिहास और संस्कृति को बेहतर तरीके से जानने का अवसर मिलेगा। उन्होंने बताया कि मंत्रालय का लक्ष्य विरासत स्मारकों को लोगों के अनुकूल और सर्वसुलभ बनाना है।

इस अवसर पर संसद सदस्य श्रीमती मीनाक्षी लेखी ने कहा कि संस्कृति मंत्रालय ने उनके निर्वाचन क्षेत्र में आने वाले पुराना किला में शानदार काम किया है। उन्होंने कहा कि पुराना किला के बिना दिल्ली का इतिहास अधूरा है।

संस्कृति मंत्रालय के सचिव श्री अरूण गोयल ने बताया कि भारत सरकार का प्रयास दिल्ली तथा देश के अन्य भागों में स्मारकों का विकास करना और उन्हें पर्यटक अनुकूल बनाना है ताकि अधिक से अधिक पर्यटक इन ऐतिहासिक स्थलों को देख सके और हमारे इतिहास के बारे में जानकारी विकसित कर सकें।

स्वागत भाषण में भारतीय पुरातत्व संर्वेक्षण की महानिदेशक श्रीमती ऊषा शर्मा ने कहा कि कॉरपोरेट सामाजिक दायित्व के अंतर्गत एनबीसीसी के सहयोग से पुराना किला को विकसित किया गया है। इस पर 30 करोड़ रुपये की लागत आई है। परियोजना के लिए कॉरपोरेट सामाजिक दायित्व के अंतर्गत 15 करोड़ का योगदान एनबीसीसी ने दिया है जबकि शेष राशि एएसआई ने दी है,उन्होंने बताया कि एनजीटी के आदेश को लागू करने के निर्णय और पयार्वरण अनुकूल उपायों के तहत पुराना किला में आगुंतकों के लिए किले के अंदर खानपान सामग्री और प्लास्टिक के पानी बोतल लाने की अनुमति नहीं होगी।

इस अवसर पर एनबीसीसी के सीएमडी डॉ. अनूप कुमार मित्तल ने कहा कि कारपोरेट सामाजिक दायित्व के भाग के रूप में सभी विकास कार्य चार महीने से कम समय में पूरे किए गए। उन्होंने कहा कि समझौता ज्ञापन में दिए गए समय से अधिक समय तक पुराना किले की सुविधाओं की देखरेख करने में एनबीसीसी को प्रसन्नता होगी।

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने मई 2018 से पुराना किला में अनेक विकास कार्य प्रारंभ किये, इन कार्यों में किले के पश्चिम और उत्तर पश्चिम में खाई का नवीकरण करना, रोशनी से सजाने का कार्य केंद्रीय पुरातन संग्रहालय का विकास, ई-टिकटिंग प्रणाली लागू करना आदि शामिल है।

COMMENTS

error: Content is protected !!