Web
Analytics
भारतीय नस्लों के उत्पादन और उत्पादकता में वृद्धि हेतु ब्राज़ील से लिया जा रहा है तकनीकी सहयोग | Aapki Chopal

भारतीय नस्लों के उत्पादन और उत्पादकता में वृद्धि हेतु ब्राज़ील से लिया जा रहा है तकनीकी सहयोग

भारतीय नस्लों के उत्पादन और उत्पादकता में वृद्धि हेतु ब्राज़ील से लिया जा रहा है तकनीकी सहयोग

ब्राजील से डॉ. जोस रिबाम्‍बर फिलिप मार्केस, निदेशक, बफैलो रिसर्च एंड डेवलेपमेंट, ब्राजील की अगुवाई में आये पांच सदस्‍यीय प्रतिनिधिमंडल ने कृषि भवन, नई दिल्ली में केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री राधामोहन सिंह से भेंट की, इस मुलाकात का मुख्य उद्देश्य देशी नस्लों के उत्पादन और उत्पादकता में तेजी से वृद्धि करने के लिए भारत एवं ब्राजील के बीच तकनीकी सहयोग को बढ़ावा देना है।
इस अवसर पर कृषि मंत्री ने बताया कि देश में ईटीटी, आईवीएफ के प्रसार, भारतीय देशी नस्लों के लिंग चयनित वीर्य उत्पादन और प्रोफेशनलों के प्रशिक्षण में ब्राजील का सहयोग लिया जायेगा, ताकि देश में देशी नस्लों के उत्पादन और उत्पादकता में तेजी से वृद्धि की जा सके।  
उन्होंने बताया कि आधुनिक प्रजनन तकनीकों को अपनाने और वैज्ञानिक प्रजनन कार्यक्रमों को लागू करने से ब्राजील ने भारत की देशी नस्लों की उत्पादकता में वृद्धि हासिल की है। ऐसे में ब्राजील द्वारा विकसित जीनोमिक चिप्स हमारी स्वदेशी नस्लों के लिए जीनोमिक चयन को लागू करने के लिए बहुत उपयोगी साबित हो सकती हैं।
श्री सिंह ने बताया कि प्रजनन तकनीकों के नवीनतम विकास में ईटीटी, आईवीएफ, लिंग चयनित वीर्य, जीनोमिक्स और कुशल श्रमबल को पुन: प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए 4 पशु प्रजनन उत्कृष्टता केंद्र (सीओईआईबी) स्थापित किये जा रहे हैं। ये केंद्र न केवल प्रशिक्षण केंद्र के रूप में काम करेंगे, बल्कि अनुसंधान और विकास केंद्र के रूप में भी कार्य करेंगें, इन केंद्रों पर उत्पादित जर्मप्लाज्म सभी राज्यों को उपलब्ध कराया जायेगा, दो उत्कृष्टता केंद्र कालसी, देहरादून, उत्तराखण्ड एवं केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय, कृषि विज्ञान केंद्र (केवीके) मोतिहारी में ब्राजील के सहयोग से स्थापित किये जा रहे हैं।
गौरतलब है कि भारत सरकार और एमब्रापा, ब्राजील के बीच एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर अक्टूबर 2016 में हस्ताक्षर किये गए जिसका मुख्य लक्ष्य असिस्टेड रिप्रोडक्टिव टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में सहयोग करना, आईवीएफ  के क्षेत्र में प्रशिक्षण देना, मवेशियों और भैंसों की उत्पादकता में सुधार के क्षेत्र में संयुक्त परियोजनाओं के माध्यम से जीनोमिक्स और असिस्टेड रिप्रोडक्टिव टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में द्विपक्षीय सहयोग विकसित करना और जीनोमिक एवं असिस्टेड रिप्रोडक्टिव टेक्नोलॉजी में क्षमता निर्माण करना है।

COMMENTS

error: Content is protected !!