Youtube

दिल्ली के बादली थाना एरिया में महिला की संदिग्ध हालत में हुई मौत

उत्तरी बाहरी दिल्ली के बादली थाना एरिया में महिला की संदिग्ध हालत में हुई मौत,परिजनों का आरोप लोगों ने कूड़ा बीनने गई इस महिला के साथ गुरुवार सुबह 6:00 बजे छेड़खानी करने की कोशिश की और विरोध किया तो चोर-चोर चिल्लाकर पिटाई शुरू कर दी और इसके बाद आसपास के लोगों ने भी पिटाई की तो महिला की अस्पताल ले जाने पर मौत हो गई,  पुलिस की मानें तो 10 से 12 महिलाओं का गिरोह एक फैक्ट्री के गोदाम में चोरी को अंजाम दे रहा था कई महिलाएं भागने में सफल रही तो दो महिलाओं को मौके से पकड़ लिया गया जिनकी पब्लिक ने पिटाई की जिसके बाद एक महिला की पिटाई से मौत हो गई जबकि दूसरी महिला ठीक है जिसे चोरी के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया है।
41 साल की सकीना भलस्वा डेरी इलाके के कलंदर कॉलोनी में रहती थी और परिवार का कहना है कि ये कूड़ा बीनने के लिए बादली एरिया में गई थी, सकीना के 6 बच्चे हैं और पति की 4 साल पहले मौत हो चुकी है,सकीना की चोरी के आरोप में बादली थाना एरिया में एक फैक्ट्री के गोदाम पर मारपीट की गई ,इसके बाद पुलिस को कॉल भी की गई।
पुलिस तुरंत सकीना को घायल हालत में अस्पताल लेकर पहुंची ,जहां सकीना की मौत हो गई और उनके साथ ही जिस दूसरी महिला को भी पब्लिक ने पकड़ा था उनकी हालत ठीक है जिसे पुलिस ने चोरी के आरोप में गिरफ्तार कर लिया है,परिवार का आरोप है कि सकीना चोरी करने नहीं गई थी बल्कि कूड़ा बीनने गई थी और परिवार इंसाफ की मांग कर रहा है।
पुलिस सूत्रों के मुताबिक महिला कूड़ा बीनने नहीं बल्कि 10 से 12 महिलाओं का गिरोह चोरी करने के लिए गया था और उसी दौरान महिला के संदिग्ध हालत में मौत  है,बाकि जांच की जा रही है ,कूड़ा बीनने गई इन 2 महिलाओं में एक सकीना भी थी,सकीना के साथ ज्यादा मारपीट की गई,  पिटाई की वजह से अस्पताल ले जाने पर सकीना  की मौत हो गई,अब पुलिस का कहना है कि पूरे मामले में जांच कर रहे हैं और पोस्टमार्टम रिपोर्ट में साफ हो पाएगा की मौत की असली वजह क्या है लेकिन बात यह भी है कि किसी को चोरी करते हुए भी यदि पकड़ लेते हैं तो क्या कानून हाथ में लेना जरूरी था, महिला को पकड़ कर पुलिस के हवाले किया जाता और देश का न्यायालय ही उसे सजा देता,सूत्रों की माने तो इसी कॉलोनी की 10 से 12 महिलाओं का गिरोह पहले भी चोरी करते हुए रंगे हाथों पास के ही सिरसपुर गांव में पकड़ा गया था और पुलिस के हवाले किया गया था, ये महिलाएं भी उस ग्रुप मे उस वक्त भी शामिल थी या नहीं यह तो जांच का विषय है लेकिन इस तरह कानून हाथ में लेना भी उचित नहीं है, फिलहाल समय पुर बादली थाना पुलिस पूरे मामले की जांच में जुटी है और पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही पूरा मामला साफ हो पाएगा,यदि पब्लिक की पिटाई से मौत हुई है तो पिटाई करने वालों पर भी निश्चित रूप से कार्रवाई होगी।

COMMENTS

error: Content is protected !!