Web
Analytics
सरकारी मशीनरी के दुरुपयोग में जुटी थी केजरीवाल सरकार ,चुनाव आयोग ने भी कर दी धप्पा | Aapki Chopal

सरकारी मशीनरी के दुरुपयोग में जुटी थी केजरीवाल सरकार ,चुनाव आयोग ने भी कर दी धप्पा


दिल्ली के नरेला में जल बोर्ड के सरकारी कार्यालय में चुनाव आयोग का छापा , जल बोर्ड के सरकारी कार्यालय में एक टेंपो कागजो से भरा उतरा, जिसमे आम आदमी पार्टी से जुड़े कामो का गुणगान करते चिट्ठियों के बंडल भरे थे जिन्हे दिल्ली जल बोर्ड के ऑफिस में उतारा गया,इनमे  हजारों की संख्या में पत्र थे जिनमें दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल लोगों को दिल्ली सरकार द्वारा जल बोर्ड में किए गए कामों का गुणगान कर रहे हैं और साथ ही आगे फिर भविष्य में क्या काम करने हैं उनका भी गुणगान कर रहे हैं,इसे अवैध चुनाव सामग्री बताते हुए बीजेपी जिलाध्यक्ष ने चुनाव आयोग व दिल्ली पुलिस को शिकायत दी,चुनाव आयोग की टीम बड़ी संख्या पहुंच आये इन पत्रों को जब्त किया और जांच में जुटी।

राजधानी दिल्ली में चुनाव प्रचार को लेकर सबसे आगे नजर आ रही, आम आदमी पार्टी पर अब सरकारी दफ्तर में चुनाव सामग्री को रखने का आरोप लगा है, सामग्री में अरविंद केजरीवाल की अपील है जो पूरी विधानसभा में घर घर जानी थी जिसमे आप पार्टी की दिल्ली सरकार के जल बोर्ड और सीवरेज के कामो के गुणगान है, ये बन्द लिफाफे है हर लिफाफे पर अलग अलग एड्रेस है और हर लिफाफे में केजरीवाल की अपील का ये पत्र है,नरेला विधानसभा के सफियाबाद रोड पर बने जल बोर्ड के दफ्तर पर यह दस्तावेज रखे हुए थे  भारी संख्या में यह लेटर सफियाबाद में बने जल बोर्ड के दफ्तर में रख दिए गए जिसकी जानकारी बीजेपी जिला अध्यक्ष नील दमन खत्री को मिली जिन्होंने पुलिस को जानकारी देते हुए जल बोर्ड के दफ्तर पर छापा मार दिया जहां से भारी मात्रा में केजरीवाल के लेटर हेड पर लिखे हुए लैटर बरामद हुए ,बीजेपी जिलाध्यक्ष का आरोप है कि इनका इस्तेमाल आने वाले लोकसभा चुनाव को देखते हुए आम आदमी पार्टी लोगों के घरों में बाय पोस्ट भेजने के लिए करने वाली थी जिसमे साफ लिखा है कि अपना आशीर्वाद और शुभकामनाएं दीजिये,यहां केजरीवाल वोट न कहकर ये कह रहे है कि आशीर्वाद दीजिए,बीजेपी उत्तर पश्चिम जिलाध्यक्ष नीलदामान खत्री का यह भी आरोप है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री सरकारी दफ्तर और कर्मचारियों का इस्तेमाल कर चुनाव प्रचार कर रहे है जोकि अचार संहिता के खिलाफ है साथ ही उन्होंने चुनाव आयोग से केजरीवाल के खिलाफ कार्यवाही करने की भी मांग की।

मामले की जानकारी स्थानीय पुलिस और चुनाव आयोग को भी दी गई ,इसके बाद मौके पर पहुंची लोकल पुलिस और चुनाव आयोग की टीम लगातार इन दस्तावेजों को कब्जे में लेकर पूछताछ में जुटी है ,सवाल यह खड़े होते हैं कि इतनी भारी संख्या में यह दस्तावेज जिनका इस्तेमाल कहीं ना कहीं चुनाव प्रचार के तरीके से किया जाने वाला था वह सरकारी दफ्तर में कैसे और किसकी इजाजत से रखे गए साथ ही ये सब कागजात आज ही यहां लाये गए ,,अब देखने वाली बात यह होगी कि आम आदमी पार्टी इस मामले पर क्या पक्ष रखती है ।

COMMENTS

error: Content is protected !!