Youtube

चक्रवाती तूफान ‘फोनी’ ने ओडिशा में मचाई तबाही,पुरी के कई इलाके जलमग्न

चक्रवाती तूफान ‘फोनी’ ने  ओडिशा में  काफी तबाही मचाई है वही पुरी में पुरानी इमारतों, कच्चे घरों, अस्थायी दुकानों को भारी नुकसान पहुंचा है, अभी तक इसकी वजह से तीन लोगों की मौत होने की खबर है और करीब 160 लोग घायल हैं साथ ही पुरी के कई इलाके जलमग्न हो गए,मिडिया रिपोर्ट्स के अनुसार तीन अलग-अलग घटनाओं में तीन लोगों की जान चली गई,पुरी में एक किशोर पर पेड़ गिर गया जिसकी वजह से उसकी मौत हो गई,नयागढ़ में मकान के उड़ते हुए मलबे से टकराने की वजह से महिला की मौत हो गई जबकि केंद्रपाड़ा में एक 65 वर्षीय महिला की तूफान राहत केंद्र में हृदय गति रुक जाने से मौत हो गई,अत्यधिक प्रचंड चक्रवाती तूफान फानी सुबह करीब आठ बजे पुरी पहुंचा हालांकि पूर्व चेतावनी के कारण कम से कम 11 तटीय जिलों के निचले एवं संवेदनशील इलाकों से करीब 11 लाख लोगों को बृहस्पतिवार तक हटा लिया गया, बिजली और टेलिकॉम सेवा पूरी तरह से ध्वस्त हो चुकी है,वहीं भुवनेश्वर में एयरपोर्ट तथा एम्स में काफी नुकसान हुआ है।

तूफान के कारण एम्स भुवनेश्वर में एक इमारत की छत का एक हिस्सा टूट गया, लेकिन सभी छात्र, स्टॉफ और मरीज सुरक्षित बताए गए हैं,’फोनी’ के कारण भुवनेश्वर में एम्स पीजी 2019 परीक्षा को रद्द कर दिया गया है,केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने जानकारी देते हुए बताया कि स्थिति सामान्य होने पर परीक्षा का आयोजन किया जाएगा,यह परीक्षा 5 मई रविवार को होनी थी,एनडीआरएफ और प्रदेश का सुरक्षाबल आपदा राहत और सड़कों को साफ करने के काम में लगा हुआ है,वहीं बीजू पटनायक इंटरनैशनल एयरपोर्ट को भी तूफान की वजह से काफी नुकसान पहुंचा है।

बता दें कि चक्रवाती तूफान ‘फोनी’ ने शुक्रवार की सुबह भारी बारिश और करीब 225 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार की प्रचंड हवाओं के साथ ओडिशा तट पर दस्तक दी,चक्रवात के पहुंचने की प्रक्रिया पूरी होने में करीब तीन घंटे का समय लगा,भयंकर तूफान के कारण इसके प्रभाव वाले इलाकों में कई जगह पेड़ उखड़ गए हैं, झोपड़ियां तबाह हो गई हैं और पुरी के कई इलाके पानी में डूबे हुए हैं,इसके साथ ही तकरीबन 12 लाख लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया है,नुकसान का सही आकलन अब तक नहीं हो पाया है हालांकि, अब इसकी रफ्तार धीमी पड़ने लगी है।

संवेदनशील इलाकों से करीब 12 लाख लोगों को शिफ्ट किया जा चुका है,वहीं 11 लाख लोगों को गुरुवार को ही सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया गया था,करीब 10,000 गांवों और 52 शहरी इलाकों से हटाए गए,11 लाख लोग 4,000 शिविरों में ठहरे हुए हैं जिनमें से विशेष रूप से चक्रवात के लिए बनाए गए 880 केंद्र शामिल हैं,ओडिशा के स्पेशल रिलीफ कमिश्नर बिष्णुपाद सेठी ने बताया कि विमान से गिराने के लिए एक लाख से अधिक भोजन के पैकेट तैयार किए गए हैं,इसके लिए दो हेलिकॉप्टर भेजने का अनुरोध किया गया है,तमाम जगहों पर सड़कों पर गिरे पेड़ उन्होंने बताया कि राजधानी भुवनेश्वर में भी करीब 140 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार तक हवा चली,भुवनेश्वर में कई जगहों पर सड़कों पर पेड़ टूटने की जानकारी सामने आई है,स्थानीय पुलिस पेड़ हटाकर सड़कों को साफ करने की कोशिश कर रही है।

भारतीय नेवी के P-8I और डॉर्नियर को शुक्रवार दोपहर में फोनी के असर और उसके कारण हुए नुकसान का आकलन करने के लिए लॉन्च किया गया ,कोस्ट गार्ड इंस्पेक्टर जनरल के.आर सुरेश का कहना है कि तूफान की वजह से समुद्र में किसी की मौत होने की रिपोर्ट अब तक नहीं मिली है,देश के सबसे बड़े फ्यूल रिटेलर इंडियन ऑइल कॉर्पोरेशन (IOC) ने ओडिशा और पश्चिम बंगाल में पेट्रोल, डीजल, एलपीजी और विमानों के ईंधन की अबाध सप्लाइ जारी रखने के लिए विशेष बंदोवस्त का ऐलान किया।

34 आपदा राहत टीमों को तैनात किया गया :
भारतीय तटरक्षक बल ने विशाखापत्तनम, चेन्नई, गोपालपुर, हल्दिया, फ्रासेरगंज और कोलकाता में विभिन्न स्थानों पर 34 आपदा राहत टीमों को तैनात किया है. किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए चार जहाजों को भी तैनात किया है,भारतीय नौसेना ने भी राहत सामग्री और मेडिकल टीमों के साथ तीन जहाजों को भी तैनात किया है ताकि ओडिशा के तट पर चक्रवात (Fani News) के पहुंचने के बाद वह राहत अभियान शुरू कर सकते हैं,नौसेना के प्रवक्ता कैप्टन डी के शर्मा ने बताया कि हवाई सर्वेक्षण के लिए कई विमानों को भी तैयार रखा गया है,कैप्टन शर्मा ने कहा, ‘जरुरत पड़ने पर बचाव अभियान और राहत सामग्री गिराने के लिए हेलीकॉप्टरों को भी तैयार रखा गया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि केंद्र सरकार चक्रवाती तूफान फानी (Cyclone Fani) से प्रभावित राज्यों के साथ संपर्क में है और चक्रवात प्रभावित राज्यों को अग्रिम राशि जारी कर दी गयी है,राजस्थान के हिंडौन सिटी कस्बे में जनसभा की शुरुआत में पीएम मोदी ने कहा कि आज जब हम सब यहां एकत्रित हुए हैं तो उस समय देश के पूर्वी और दक्षिणी तट पर रहने वाले लाखों परिवार भीषण चक्रवात का सामना कर रहे हैं,उन्होंने कहा, ‘मैं चक्रवात (Cyclone Fani) प्रभावित राज्य सरकारों को और वहां के लोगों को भरोसा देना चाहता हूं कि संकट के समय में केंद्र सरकार हमारे उन सभी परिवारों के साथ हैं जहां चक्रवात की आपदा आई है. बड़ी से बड़ी मुश्किल में हम सभी भारतीयों का एकजुट होकर मुकाबला करना एक भारत, श्रेष्ठ भारत की ही पहचान है,पीएम मोदी ने कहा कि चुनाव की इस आपाधापी के बावजूद उन्होंने हालात की विस्तृत समीक्षा की है, उन्होंने कहा,’‘कल ही हम इस चक्रवात से जूझ रहे राज्यों के लिए 1000 करोड़ रुपये से ज्यादा की अग्रिम राशि जारी कर चुके हैं, एनडीआरएफ, तटरक्षक बल, भारतीय नौसेना और थल सेना पूरी मुस्तैदी के साथ प्रशासन के साथ जुटी हुई है,चुनाव आयोग ने बचाव और राहत कार्यों की सुविधा के लिए 11 जिलों से आदर्श आचार संहिता हटा ली है,इसके अलावा आयोग ने गजपति और जगतसिंहपुर जिलों के चार विधानसभा क्षेत्रों के ईवीएम को सुरक्षित स्थानों पर स्थानांतरित करने को भी मंजूरी दे दी है।

1999 के बाद का सबसे खतरनाक तूफान :
साइक्लोन फानी को साल 1999 के बाद का सबसे खतरनाक चक्रवाती तूफान (Cyclone Fani)  कहा जा रहा है,साल 1999 के सुपर चक्रवात में 10,000 लोगों की जान चली गई थी और उसने ओडिशा में जमकर तबाही मचाई थी,ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने चक्रवात के दौरान लोगों से घरों में रहने की अपील की है और कहा कि लोगों की सुरक्षा के लिए सभी प्रबंध कर लिए गए हैं,11 तटीय जिलों में सभी दुकानें, व्यावसायिक प्रतिष्ठान, निजी और सरकारी कार्यालय एहतियाती तौर पर बंद रहेंगे,वहीं, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने चक्रवात फानी (Cyclone Fani News)  के राज्य की ओर बढ़ने पर शुक्रवार को होने वाली अपनी रैलियां रद्द कर दी और लोगों को अफवाहें ना फैलाने तथा घरों के भीतर रहने की सलाह दी है।

223 ट्रेनें रद्द, कोलकाता हवाई अड्डे पर भी असर :
चक्रवाती तूफान ‘फानी’ की वजह से एहतियात के तौर पर, भारतीय रेलवे ने चार मई तक कोलकाता-चेन्नई मार्ग पर ओडिशा तटरेखा के साथ लगे भद्रक-विजयनगरम के बीच 223 ट्रेनों को रद्द कर दिया है,रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने आईएएनएस को बताया कि कोलकाता-चेन्नई मार्ग के भद्रक-विजयनगरम सेक्शन (ओडिशा तटरेखा के साथ लगे) पर 140 मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों और 83 यात्री ट्रेनों को चार मई की दोपहर तक रद्द कर दिया गया है,उन्होंने कहा कि नौ ट्रेनों का मार्ग बदला गया है और चार ट्रेनों को कुछ समय के लिए रोका गया है,दूसरी तरफ, ‘फानी’ के मद्देनजर कोलकाता हवाईअड्डे से शुक्रवार अपराह्न तीन बजे से शनिवार सुबह तक विमानों का आवागमन बंद रहेगा।

जहां एक तरफ ओडिशा में फोनी का असर कम हो रहा है, वहीं दूसरी तरफ पश्चिम बंगाल में इसका असर बढ़ रहा है,पश्चिम बंगाल के दीघा और आसपास के इलाकों में 125 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से हवा चल रही है,कोलकाता एयरपोर्ट से आने-जाने वाली फ्लाइट्स शुक्रवार दोपहर 3 बजे से लेकर शनिवार सुबह 8 बजे तक के लिए रद्द कर दी गई हैं,फोनी का असर राजनीतिक पार्टियों पर भी पड़ रहा है,जहां पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने चुनावी रैलियां रद्द कर तटीय इलाकों के पास डेरा जमा लिया है,वहीं बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को भी झारखंड में होने वाली तीन रैलियां रद्द करनी पड़ी।

मौसम विभाग का कहना है कि अगले 3 घंटे में फोनी कमजोर पड़ने वाला है और इसकी गति 150-160 किमी रह जाएगी, इसके बाद यह उत्तरपूर्व की ओर बढ़ेगा और शाम को तीव्र चक्रवाती तूफान के रूप में यह उत्तर ओडिशा के ऊपर पहुंचेगा,फोनी आंध्र प्रदेश से दूर चला गया है, इसलिए डी-वॉर्निंग जारी की गई है,राज्य के तीन जिले भारी बारिश से प्रभावित थे।

COMMENTS

error: Content is protected !!